लोकसभा चुनाव: लालकृष्ण आडवाणी ही नहीं BJP की पहली लिस्ट से गायब है इन वरिष्ठ बुजुर्ग नेताओं के भी नाम


भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने गुरुवार (21 मार्च) को लोकसभा चुनाव के लिए अपने 184 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी जिसमें प्रमुख उम्मीदवारों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी से और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की जगह गांधीनगर से चुनाव लड़ेंगे। ऐसा नहीं है कि बीजेपी ने पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी का ही इस बार टिकट नहीं काटा, बल्कि उत्तराखंड के दो बार मुख्यमंत्री रहे भुवन चंद्र खंडूरी का भी टिकट कथित तौर पर काट दिया है।
बीसी खंडूरी 2007-09 और फिर 2011-12 के बीच मुख्यमंत्री रहे हैं, लेकिन बीजेपी ने पहली लिस्ट में उन्हें जगह नहीं दी है। इन वयोवृद्ध नेताओं को बीजेपी द्वारा उनकी लोकसभा सीटों से टिकट नहीं दिए जाने से ऐसा लगता है कि पार्टी ने चुनावी राजनीति से अपने कई पुराने दिग्गजों को दूर रखने का फैसला कर लिया है। माना जा रहा है कि पार्टी नेतृत्व के ऐसे कदम की संभावना के मद्देनजर कलराज मिश्र और भगत सिंह कोशियारी जैसे वरिष्ठ नेताओं ने आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी।
पार्टी के एक अन्य वयोवृद्ध नेता मुरली मनोहर जोशी, जो 2014 में कानपुर से जीते थे, का राजनीतिक भाग्य अनिश्चित है क्योंकि पार्टी ने गुरुवार को जारी पहली सूची में इस सीट से अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है। हालांकि, पार्टी सूत्रों ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि अभी यह संभावना नहीं है कि जोशी को आम चुनाव में उतारा जाएगा। 91 वर्षीय आडवाणी 1998 से गुजरात की गांधीनगर सीट से चुनाव जीतते आ रहे थे। बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह अब इस सीट से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे।

लगता है कि खंडूरी के बेटे मनीष को पता चल गया था कि बीजेपी से पिता का टिकट कटने वाला है और बदले में उन्हें भी नहीं मिलने वाला है। पार्टी के टिकट घोषित करने से पहले ही मिजाज भांप कर बीजेपी के कद्दावर नेता भुवन चंद्र खंडूरी के बेटे मनीष ने बीते दिनों कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया था। वे देहरादून में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए। बता दें कि भुवन चंद्र खंडूरी वर्तमान में पौड़ी से बीजेपी के सांसद हैं।
ऐसी अटकलें हैं कि कांग्रेस मनीष खंडूरी को पौड़ी लोकसभा सीट से टिकट दे सकती है जिसका प्रतिनिधित्व उनके पिता कर रहे हैं। बता दें कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बी सी खंडूरी को पिछले साल रक्षा मामलों की स्थायी संसदीय समिति के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था। कांग्रेस ने इस घटनाक्रम को लेकर बीजेपी पर जम कर तंज किए थे।
बता दें कि गांधीनगर से इस बार आडवाणी की जगह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को टिकट दिया गया है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी से चुनाव लड़ेंगे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह पुरानी सीट लखनऊ से लड़ेंगे, जबकि नितिन गडकरी नागपुर से प्रत्याशी होंगे। स्मृति ईरानी अमेठी से चुनाव लड़ेंगी। ईरानी के सामने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मुकाबले में होंगे।

Post a Comment

0 Comments