'डांग एक्सप्रेस' ने यूरोप एथलेटिक्स में एक बार फिर गोल्ड मेडल दिलाया, कितनी सलामी?


अच्छी खबर: 'डांग एक्सप्रेस' ने यूरोप एथलेटिक्स में एक बार फिर गोल्ड दिलाया, कितनी सलामी?

गुजरात के डांग जिले के एक छोटे से गाँव से एशियाई खेलों में पहुँची कलाकार सरिता गायकवाड़ ने अपने गाँव और देश का नाम रोशन किया हैं। सरिता गायकवाड़ ने यूरोप में पोलैंड में चल रही एथलेटिक चैम्पियनशिप में 54.21 सेकंड में 400 मीटर की दौड़ पूरी कर भारत को गोल्ड दिलाया।

इसके साथ ही , 25 वर्षीय सरिता गायकवाड़, जो डांग जिले के करडिआम्बा गांव के एक साधारण आदिवासी परिवार की लड़की है। जिसे डांग एक्सप्रेस के नामसे जाना जाता है। सरिता ने एक और सफलता हासिल की है। इससे पहले, सरिता गायकवाड़ ने एशियाई एथलेटिक्स दौड़ में भाग लेकर देश को पहला गोल्ड दिलाया था। इस आदिवासी लड़की ने फिर से दुनिया में भारत का नाम रोशन किया।

खेल महाकुंभ से राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचने वाली और बंदूक की गोली भाती दोडती सरीता 2017 के जनवरी मास मे कोईम्बतुर मे 400 मीटर और 400 मीटर हडल्स मे उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और युनिवर्सिटी को गोल्ड दिलाया।

Post a Comment

0 Comments