फोटो: कोर्ट में कहा था, 'पापा से जान का खतरा है', दो साल बाद उसी पिता ने गला दबाकर मार दिया!

आरोपी संतराम को पुलिस ने देर रात गिरफ्तार कर लिया.
सोनीपत, हरियाणा का एक जिला है. यहां पर एक गांव है दहिसरा. जहां पर एक आदमी ने अपनी ही बेटी की हत्या करके, उसका अंतिम संस्कार कर दिया. गांव वालों के मुताबिक, लड़की लव मैरिज करना चाहती थी. उसके पापा राजी नहीं थे, क्योंकि जिससे वो प्यार करती थी, वो हरिजन है और ये 'चौहान' हैं.

इस मामले की जानकारी के लिए हमने इंडिया टुडे से जुड़े पवन से बात की. उन्होंने बताया कि लड़की की उम्र 19 साल थी. उसका नाम शिवानी है. वो जिस लड़के को पसंद करती थी, उससे ही शादी करना चाहती थी. पर ये बात उसके पापा संतराम को पसंद नहीं थी. इस कारण उन्होंने अपनी बेटी की हत्या कर दी.

इतना ही नहीं, उसका बकायदा अंतिम संस्कार किया और अस्थियां भी नदी में बहा दी. इस प्रक्रिया में पूरा गांव शामिल हुआ. क्योंकि उन्हें यही बताया गया था कि बेटी की किसी कारण से मौत हो गई है.

गांव के ही एक युवक ने पुलिस को बताया. उसके बाद कुंडली थाना की पुलिस मौके पर पहुंची. लेकिन तब तक आरोपी संतराम वहां से भाग चुका था. पर पुलिस की टीम ने उसकी तलाश की और गिरफ्तार कर लिया है.

इस मामले में गांव के सरपंच मांगेराम का कहना है कि वो और गांव के कुछ और लोग अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे. हत्या की बात तो उन्हें पता नहीं, उनका कहना है कि लड़की की मौत हुई थी. उसका अंतिम संस्कार हिंदू रीति-रिवाज के तहत किया गया था. प्रेम संबंध की पहले भी एफआईआर दर्ज हुई थी.

लड़के और लड़की दोनों ने दर्ज करवाई थी. फिर इनका समझौता हो गया था. लड़की कुछ दिन पहले सोच रही थी कि वो लव मैरिज करेगी, इसी वजह से घर में भी कुछ रंजिश थी. ये नहीं पता कि उस लड़की के साथ क्या हुआ. ये लड़की राजपूत थी और लड़का हरिजन था, तो शायद ये बात पिता को बर्दाश्त नहीं हुई होगी. पर पुलिस ने देर रात उसे गिरफ्तार कर लिया है.
सरपंच मांगेराम.
एफआईआर के मुताबिक, लड़की की मां शशि का कहना है कि दो अगस्त की रात साढ़े चार बजे की घटना है. वो चादर बिछाकर जमीन पर सो रही थी और शिवानी बाहर के कमरे में बिस्तर पर सो रही थी. मां का कहना है कि उसे हलचल दिखाई दी. तो उसने उठकर देखा कि संतराम अपनी ही बेटी का चादर से मुंह दबा रहा था.

संतराम ने शशि से कहा कि इसने हमारी बेइज्ज़ती करवा दी है. इसको मौत के घाट उतार दिया है. शशि के मुताबिक, इतना कहने के बाद संतराम बाहर चला गया. जब शशि अपनी बेटी के पास गई, तो देखा कि बेटी मर चुकी थी. इसके बाद शशि भी बेहोश हो गई. जब उसे होश आया तो, संतराम बेटी की नॉर्मल मौत बताकर उसका अंतिम संस्कार कर चुका था.
अंतिम संस्कार के बाद नदी के किनारे पड़ी राख.
लड़की की मां का कहना है कि बेटी गांव के ही युवक संदीप से प्यार करती थी. 2017 में भी वो स्कूल जाने के बहाने घर से भाग गई थी. तो संतराम ने संदीप पर अपहरण का केस कर दिया था. संदीप की गिरफ्तारी हुई थी. फिर शिवानी ने कोर्ट में कहा था कि उसे अपने पापा से जान का खतरा है. फिर बाद में संतराम ने कहा कि उसे कुछ नहीं होगा, तब वो घर आई थी.

वहीं डीएसपी हरेंद्र सिंह का कहना है कि उन्हें फोन से सूचना मिली थी कि एक लड़की की हत्या कर दी गई. जब तक पुलिस पहुंची, तब तक उसका अंतिम संस्कार किया जा चुका था. लेकिन लड़की की मां ने शिकायत की है. उसके मुताबिक, लड़की ने परिवार की बेइज्ज़ती करवाई थी, इसीलिए लड़की के पापा ने उसकी हत्या कर दी.

डीएसपी का कहना है कि आरोपी को देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है. जल्द ही पूरी बात सामने आएगी.

Post a Comment

0 Comments